प्यारे विद्यार्थीयों! इस आर्टिकल में आप जानेंगे की स्नातक स्तर पर होने वाली राष्ट्र गौरव (अनिवार्य प्रश्न पत्र) की परीक्षा का पाठ्यक्रम और पैटर्न क्या है? अर्थात इसकी परीक्षा में कैसे प्रश्न पूछे जाते हैं? इसके साथ ही साथ एक मॉडल पेपर भी आप सभी के साथ शेयर किया गया है। जिससे आपको राष्ट्र गौरव के एग्जाम में पूछे जाने वाले क्वेश्चन को समझने में काफी मदद मिलेगी। राष्ट्र गौरव से संबंधित लगभग पूरी जानकारी इस लेख में आपको मिलने वाली है।

Rastra Gaurav - राष्ट्र गौरव, Syllabus & Pattern, Sample Paper and Complete Information
Rashtra Gaurav

दोस्तों राष्ट्र गौरव सामान्यतः विश्वविद्यालयों एवं उनके संबद्ध महाविद्यालयों में एक अनिवार्य प्रश्न पत्र के रूप में होता है। राष्ट्र गौरव प्रश्न पत्र को अन्य नाम से भी जाना जाता है जैसे कि-

  • पर्यावरण एवं मानवाधिकार अध्ययन 
  • राष्ट्र गौरव एवं पर्यावरण अध्ययन 
  • राष्ट्र गौरव एवं भारतीय चिंतन 


राष्ट्र गौरव क्या है? What is Rashtra Gaurav?

राष्ट्र गौरव दो शब्दों से मिलकर बना है-

राष्ट्र और गौरवजिसका मतलब है- ऐसी कोई बात जिससे राष्ट्र का गौरव बढ़ता हो। चाहे वह राष्ट्र की संस्कृति हो या धर्म, साहित्य हो या उन्नति, कला हो या स्थापत्य की बात, राष्ट्र की प्रगति में हर वह तथ्य जिससे राष्ट्र गौरवान्वित महसूस हो रहा हो, उसका अध्ययन राष्ट्र गौरव के अंतर्गत किया जाता है।


राष्ट्र गौरव पेपर का पैटर्न (Rashtra Gaurav Pattern)

प्रश्नों की कुल संख्या 100
निर्धारित समय 2 घंटे
पास होने के लिए आवश्यक अंक 35 प्रतिशत


राष्ट्र गौरव पेपर का पाठ्यक्रम (Rashtra Gaurav Syllabus)

राष्ट्र गौरव की पाठ्यक्रम में निम्नलिखित पाठ इस प्रकार है-

1. प्राचीन सभ्यता होने का गौरव

भारतीय संस्कृति की प्रमुख विशेषताएँ:-

  • अनेकता में एकताः भौगोलिक वैशिष्ट्य, भारतीय जन (Indian Diaspora)
  • धार्मिक एवं सांस्कृतिक सद्भाव
  • आञ्चलिक वैशिष्ट्य (भाषा- वेषभूषा, कला और संस्कृति)

सैन्धव सभ्यता:- प्राचीनतम् नगरीय सभ्यता

वैदिक संस्कृति:- वैदिक ऋषि वेद, हिरण्यगर्भ


2. दार्शनिक एवं आध्यात्मिक उत्कर्ष

क. औपनिषदिक चिन्तन

ख. जैन धर्म:- महावीर का जीवन परिचय और शिक्षा

ग. बौद्ध धर्म:- बुद्ध का जीवन परिचय और शिक्षा, भारतीय संस्कृति को बौद्ध धर्म की देन, बौद्ध धर्म और विश्व 

घ. षड्दर्शन:-

  • संक्षिप्त परिचय
  • वेदान्त और शंकराचार्य, रामानुज

ड. मध्यकालीन भारत की भक्ति सन्त परम्परा:-

  • सगुण ( सन्त रामानन्द सूरदास, तुलसी चैतन्य, रहीम, रसखान, मीरा)
  • निर्गुण (सन्त कबीर, रैदास, नानक)

च. भारत में सूफी मतः- (विभिन्न सूफी सम्प्रदाय, उनके प्रवर्तक एवं रचनाएँ)


3. साहित्य, विज्ञान एवं ज्योतिष

क. साहित्य

  • महाकाव्यः- महाभारत, रामायण, तमिल साहित्य, शिलप्पद्दिकारम्, मणिमेकलै 
  • प्रमुख साहित्यिक ग्रन्थः- भास, शूद्रक, कालिदास, बाणभट्ट, कल्हण अमीर खुसरो, अबुल फजल, भारतेन्दु हरिश्चन्द्र
  • कौटिल्य का अर्थशास्त्र
  • पाणिनि की अष्टाध्यायी

ख. प्राचीन व मध्यकालीन भारत में विज्ञान

ग. गणित, आयुर्वेद, ज्योतिष के प्रमुख विद्वान और उनकी कृतियों


4. कला और स्थापत्य

  • अशोक स्तम्भ
  • स्तूप:- साँची, भरहुत, अमरावती के स्तूप
  • अजन्ता, एलोरा की गुफायें
  • कोणार्क, लिंगराज मन्दिर, महाबलिपुरम् तन्नजौर (बृहदीश्वर मन्दिर), खजुराहो के मंदिर एवं मध्यकालीन स्मारक कुतुबमीनार, फतेहपुर सीकरी, ताजमहल, लालकिला


5. प्रमुख राष्ट्रीय चरित्र एवं व्यक्तित्वः

  • अशोक 
  • अकबर
  • राजा राममोहन रॉय
  • विवेकानन्द
  • महात्मा गाँधी
  • बी० आर० अम्बेडकर


Rastra Gaurav (राष्ट्र गौरव) Sample Papers for Practice

Question Paper

Link

Sample Paper - 1

Click Here

Sample Paper - 2

Click Here

Sample Paper - 3

Click Here

Sample Paper - 4

Click Here

Sample Paper - 5

Click Here

Sample Paper - 6

Click Here

2 Comments

Thanks for your comments.

Post a Comment

Thanks for your comments.

Previous Post Next Post